Shiv-shankar-ko-jisne-puja-indianpanditji.in.jpg

Somvar Bhajan : शिव भजन – शिव-शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ

सोमवार (Somvar Bhajan) की सुबह, भगवान शिव को समर्पित प्रार्थनाओं और भक्ति गीतों के साथ दिन की शुरुआत करना एक आम परंपरा है। यहां एक शिव भजन है जिस पर आप सोमवार की सुबह को बेहतर बनाने के लिए आप इसे गुगुना सकते है:

शिव-शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ
शिव-शंकर कोजिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ
अंतकाल को भव-सागर में उसका बेड़ा पारहुआ
भोले शंकर की पूजा करो, ध्यान चरणों में इसकेधरो

शिव-शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धारहुआ-[सामूहिक गूंज]
शिव-शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ-[सामूहिक गूंज]
अंतकाल को भव-सागर मेंउसका बेड़ा पार हुआ-[सामूहिक गूंज]

भोले शंकर की पूजा करो, ध्यान चरणों में इसकेधरो

हर-हर महादेव, शिव-शंभु-[सामूहिक गूंज]
हर-हर महादेव,शिव-शंभु-[सामूहिक गूंज]
हर-हर महादेव, शिव-शंभु-[सामूहिक गूंज]
हर-हर महादेव,शिव-शंभु-[सामूहिक गूंज]

डमरू वाला है जग में दयालु बड़ा
दीन-दुखियों कादाता, जगत का पिता
डमरू वाला है जग में दयालु बड़ा
दीन-दुखियों का दाता,जगत का पिता


सब पे करता है ये भोला शंकर दया
सबको देता हैये आसरा
सबको देता है ये आसरा


इन पवन चरणों में अर्पणआकर जो इक बार हुआ
अंतकाल को भव-सागर में उसका बेड़ा पारहुआ


ॐ नमः शिवाय नमो-[सामूहिक गूंज]
हरि ॐ नमः शिवायनमो-[सामूहिक गूंज]


हर-हर महादेव, शिव-शंभु-[सामूहिक गूंज]
हर-हर महादेव,शिव-शंभु-[सामूहिक गूंज]
हर-हर महादेव, शिव-शंभु-[सामूहिक गूंज]
हर-हर महादेव,शिव-शंभु-[सामूहिक गूंज]


नाम ऊँचा है सबसे महादेव का
वंदना इसकी करतेहैं सब देवता
नाम ऊँचा है सबसे महादेव का
वंदना इसकी करते हैं सबदेवता


इसकी पूजा से वरदान पाते हैं सब
शक्ति का दान पातेहैं सब
शक्ति का दान पाते हैं सब


नाग, असुर, प्राणी सब परही भोले का उपकार हुआ
नाग, असुर, प्राणी सब पर ही भोले का उपकार हुआ
अंतकालको भव-सागर में उसका बेड़ा पार हुआ


शिव-शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धारहुआ
शिव-शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ
अंतकाल को भव-सागर में उसकाबेड़ा पार हुआ
भोले शंकर की पूजा करो, ध्यान चरणों में इसकेधरो


शिव-शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धारहुआ-[सामूहिक गूंज]
शिव-शंकर को जिसने पूजा उसका ही उद्धार हुआ-[सामूहिक गूंज]
अंतकाल को भव-सागर मेंउसका बेड़ा पार हुआ-[सामूहिक गूंज]

भजन के बारे में:

लेखकों : दिलीप सेन, समीर सेन, महेंद्र देहलवी

Mahashivaratri 2024 : जाने पूजा विधि, मंत्र और समय हिंदी में

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *