BHAGVAN BRIHASPATI JI KI AARTI

भगवान बृहस्पति जी की आरती (BRIHASPATI DEV KI AARTI)

श्री BRIHASPATI DEV KI AARTI का पूजा-पाठ उनकी भक्ति में किया जाता है। हिन्दू धर्म में मानना है की बृहस्पति जी भगवन विष्णु के औतार है. आईये उनकी आरती का पाठ करे जिसके आरती मात्र से सभी कष्टों का निवारण होता है।

—-Start Hindi—-

आरती बृहस्पति देव की (Aarti Brihaspati Dev Ki) :

जय बृहस्पति देव, जय बृहस्पति देव।
सुर गुरु वार व्रत की, पूजा करते जीव।।

चरण धूलि चरण चित्र मंदन, चरण कमल सेव।
चरण कमल सेव, मन मंदिर को सजावे।
सुर नर मुनि जन सुखदाता, त्रिभुवन पालनहारी।
जय बृहस्पति देव, जय बृहस्पति देव।।

ब्रह्मा विष्णु सदाशिव, जनते धरती आकर।
जो योगी सदा ध्यान में, रहते मन चकर।
सर्व मंगल कारक भगवान, कृपा करहु जन पर।
जय बृहस्पति देव, जय बृहस्पति देव।।

बुद्धिदायक शक्ति तुम्हारी, ज्ञान विज्ञान प्रकाश।
दुःख शोक नाशक तुम्हारे, जीवन को देते आश।
बुद्धि विद्या प्रदायक दयालु, तुम्हारे चरणों में आकर।
जय बृहस्पति देव, जय बृहस्पति देव।।

पीपल के पत्ते धूप दीप, फल मनी भोग।
भक्ति श्रद्धा आराधना, तुम्हारी बने लोग।
सुख संपत्ति बढ़ते जीवन, तुम्हारे व्रती हों सदा।
जय बृहस्पति देव, जय बृहस्पति देव।।

आरती करती जननी तुम्हारी, भक्ति श्रद्धा जो लाये।
सुख समृद्धि भर देते तुम, करते सबकी दुःख भागे।
संकट मोचन करण तुम्हारे, व्रत करने वालों का।
जय बृहस्पति देव, जय बृहस्पति देव।।

——End Hindi—–

बृहस्पति व्रत (Brihaspati Vrat) : एक ऐसा व्रत जिसे करने से सद्बुद्धि, ज्ञान, पुत्र, परिवार एवं मन को शांति प्राप्त होती है। click here

——Start English—-

Aarti Brihaspati Dev Ki

Jay Brihaspatidev, Jay Brihaspati Deva.
Sur Guru Var Vrat Ki, Pooja Karate Jiva..

Charaṇ Dhuli Charaṇ Chitr Mandan, Charaṇ Kamal Seva.
Charaṇ Kamal Sev, Man Mandir Ko Sajave.
Sur Nar Muni Jan Sukhadata, Tribhuvan Palanahari.
Jay Brihaspatidev Dev, Jay Brihaspatidev Deva..

Brahma Vishṇu Sadashiv, Janate Dharati Akara.
Jo Yogi Sada Dhyan Men, Rahate Man Chakara.
Sarv Mangal Karak Bhagavan, Kṛpa Karahu Jan Para.
Jay Brihaspatidev Dev, Jay Brihaspatidev Deva..

Buddhidayak Shakti Tumhari, Jnan Vijñan Prakasha.
Duahkh Shok Nashak Tumhare, Jivan Ko Dete Asha.
Buddhi Vidya Pradayak Dayalu, Tumhare Charaṇon Men Akara.
Jay Brihaspatidev Dev, Jay Brihaspatidev Deva..

Pipal Ke Patte Dhup Dip, Phal Mani Bhoga.
Bhakti Shraddha Aradhana, Tumhari Bane Loga.
Sukh Sampatti Badhate Jivan, Tumhare Vrati Hon Sada.
Jay Brihaspatidev Dev, Jay Brihaspatidev Deva..

Aarti Karati Janani Tumhari, Bhakti Shraddha Jo Laye.
Sukh Samṛddhi Bhar Dete Tum, Karate Sabaki Duahkh Bhage.
Sankaṭ Mochan Karaṇ Tumhare, Vrat Karane Valon Ka.
Jay Brihaspatidev Dev, Jay Brihaspatidev Deva.

—-End—-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *